बैडमिंटन इतिहास के 5 सितारें जिन्होंने कियें है अद्भुत् कारनामें

भारत में बैडमिंटन मौजूदा वक्त में बहुत ही लोकप्रिय खेल बन चुका है।  सभी इस खेल को बेहद पसंद करते हैं और इस खेल में लड़के और लड़कियां दोनों करियर भी बना रहे हैं ।

भारत में बैडमिंटन मौजूदा वक्त में बहुत ही लोकप्रिय खेल बन चुका है।  सभी इस खेल को बेहद पसंद करते हैं और इस खेल में लड़के और लड़कियां दोनों करियर भी बना रहे हैं । अब जब यह खेल मुख्य धारा में आ गया है तो आप लोगों के मन में ये सवाल जरुर आ रहा होगा कि बैडमिंटन का सबसे अच्छा खिलाड़ी कौन हैं ? इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम आपको इन्ही सवालों से जुड़े हुए कुछ रोचक जानकारियाँ देने जा रहे हैं। 

पारुपल्ली कश्यप 

पारुपल्ली कश्यप भारत के सबसे प्रसिद्ध और अपराजेय खिलाड़ियों में से एक हैं । वह भारत के सबसे महान खिलाड़ी थे और उनका नाम अब तक के सर्वश्रेष्ठ बैडमिंटन खिलाड़ियों में लिया जाता है। इस खिलाड़ी ने लंदन 2012 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में पदक जीतने में सफल नही रहे।  हालाँकि उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर उसकी भरपाई कर दी थी । इन्होने अपने अंदर हो रहे अस्थमा की बीमारी को खेल में नही आने दिया।  पारुपल्ली को अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था और ये हम सभी के लिए एक प्रेरणा के स्त्रोत हैं। क्यूंकि अस्थमा जैसी बिमारी होने के बावजूद वो अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल रहे। 

साइना नेहवाल 

बैडमिंटन के क्ष्रेत्र में साइना नेहवाल ने पूरी दुनिया में अपना और भारत का नाम खूब कमाया है।  इस खिलाड़ी ने अपने शानदार प्रदर्शन से भारत से लेकर विदेशो तक अपनी काबिलियत का परचम लहराया है। उन्होंने लंदन ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर ऐसा करने वाली पहली बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई। साइना नेहवाल ने अबतक 24 चैम्पियनशिप ट्रोफ़ी जीती हैं | बैडमिंटन की मशहूर खिलाड़ी नेहवाल नंबर 1 रेंकिंग रखने वाली पहली खिलाड़ी भी है। भारत देश के लिए पहला ओलंपिक पदक जीतने वाली देश की पहली बैडमिंटन खिलाड़ी सा इना नेहवाल ने इस खेल की परिभाषा ही बदल दी। उन्होंने कई यूवा लड़कियों को इस खेल को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया । साइना नेहवाल भारतीय खेलों में सबसे सफल महिला खिलाड़ी है।  इन्होने अर्जुन पुरस्कार, पद्दमश्री, पद्दम भूषण, और राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कारों के साथ 24 से भी ज्यादा अंतराष्ट्रीय चैम्पियनशिप जीती हैं। उनके नाम BWF सुपर सीरीज चैम्पियनशिप जीतने का भी रिकॉर्ड दर्ज है जो उन्होंने साल 2009 और 2010 में  ये रिकॉर्ड बनाया था और ऐसा करने वाली ये पहली महिला खिलाड़ी थी।  

प्रकाश पादुकोण 

प्रकाश पादुकोण ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप जीतने वाले पहले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी थे।  इसके लिए इन्हें इस खेल का जादूगर भी कहा जाता था।  वर्ष 1980 में इन्होने पहला रेंकिंग हासिल किया और ऐसा करने वाले पहले भारतीय बनकर एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम किया |इसके अलावा प्रकाश पादुकोण ओलंपिक गोल्ड केस्ट फाउन्डेशन के सह-संथापक भी है, जिसका उदेश्य भारत में ओलंपिक खेलों को बढ़ावा देना है । इन्होने भारत देश के लिए बहुत सारे अच्छे कार्य भी किए है जैसे कि यूवा ख़िलाड़ियो को खेलों में रूचि पैदा  करने के लिए उनका मनोबल बढ़ाना और उनकी मदद करना आदि कार्य इन्होने अपने खेल के साथ इस पर भी विशेष ध्यान दिया। 

पी वी सिंधु 

इस खिलाड़ी ने साल 2019 BWF विश्व चैम्पियनशिप का ख़िताब जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनी । इस खिलाड़ी ने अपने लगन और मेहनत से कमाल का इतिहास रच दिया और भारत सहित पूरे देश में अपना झंडा गाड़ दिया। भारत की सबसे प्रसिद्ध खिलाड़ी और देश की मौजूदा शक्ति पीवी सिंधु है जो सभी यूवा लड़कियों के लिए प्रेरणा का एक स्त्रोत भी है।  सिंधु और साइना नेहवाल बैडमिंटन में एक सितारा बनकर उभरी और आज देश का नाम रोशन कर रहीं हैं। ये दोनों अपने सभी मैचों में अपनी आक्रमण तेवर से सामने वाले को धराशायी कर देती हैं ।

नंदू नाटेकर  

जिस प्रकार से क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को माना जाता है उसी प्रकार नंदू नाटेकर को बैडमिंटन का भगवान कहा जाता है। भारत के सबसे लोकप्रिय खिलाड़ियों में से एक नंदू नाटेकर को दुनिया का सबसे बेहतरीन बैडमिंटन खिलाड़ी माना जाता हैं। वे शीर्ष 7 बैडमिंटन रेंकिंग में पहले नंबर पर है नाटेकर, जिन्हें घरेलु बैडमिंटन खेल का बादशाह भी कहा जाता है। 

यह भी पढ़ें :- पीवी सिंधु का मलेशिया ओपन में सेमीफाइनल पंच, लिया पिछली हार का बदला

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More