पेरिस ओंलपिक से पहले बैडमिंटन खिलाड़ियों को मिलेगा ये बेहतरीन मौका

चार वर्षों में होने वाले इन खेलों में भाग लेने से पहले खिलाड़ियों को अपने खेल को और बेहतर बनाने के लिए सिंगापूर ओपन 750 के अलावा आस्ट्रेलियाई ओपन 500, इंडोनेशिया सुपर 1000, कनाडा ओपन सुपर 500 में भाग लेने का मौका मिलेगा।

पेरिस ओलंपिक में अब सिर्फ दो महीने ही बचे हुए हैं। ऐसे में भारतीय खिलाड़ियों को अपनी खेल कुशलता में सुधार लाने की जरुरत है। चार वर्षों में होने वाले इन खेलों में भाग लेने से पहले खिलाड़ियों को अपने खेल को और बेहतर बनाने के लिए सिंगापूर ओपन 750 के अलावा आस्ट्रेलियाई ओपन 500, इंडोनेशिया सुपर 1000, कनाडा ओपन सुपर 500 में भाग लेने का मौका मिलेगा। इस दौरान सभी खिलाड़ियों की कोशिश होगी कि मेहनत करके अपनी खेल कुशलता में बदलाव लाए और खुद को पेरिस ओंलपिक के लिए और ज्यादा बेहतर बनाए।  

मिलेगा मौका अपनी कुशलता को सवांरने का 

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी मंगलवार से शुरू हो रहे सिंगापूर ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में जब उतरेगी तो उसकी कोशिश इस साल होने वाले पेरिस ओलंपिक की तैयारियों को पुख्ता करने पर होगी। सभी की नजर इस टूर्नामेंट में शानदार लय में चल रही पीवी सिंधु के उपर रहेगी। पीवी सिंधु अभी हाल में ही मलेशिया मास्टर्स ओपन में उपविजेता रहीं थी। पीवी सिंधु के अलावा प्रणय व लक्ष्यसेन के उपर भी सभी की निगाहें होंगी जो अभी खराब दौर से गुजर रहे हैं। इन दोनों को मिले मौको को बेहतर बनाने की जरूरत है और इसी के साथ अपनी खोई हुई लय वापस पाने का एक शानदार मौका भी है। 

लय हांसिल करना चाहेंगे लक्ष्य सेन और सिंधु

भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु दो बार ओलंपिक पदक विजेता रह चुकी हैं। पीवी सिंधु का पिछले दो साल से चला आ रहा खिताब का इंतजार और लम्बा हो गया। दरअसल, उन्हें मलेशिया मास्टर्स के फाइनल में रविवार को विश्व रैंकिंग में सातवें स्थान पर काबिज चीन की वांग झी यी से हार का सामना करना पड़ा। विश्व रैंकिंग में 15वें स्थान प् काबिज सिंधू इससे पहले साल 2022 में सिंगापुर ओपन का खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। पीवी सिंधू ने अभी पिछले साल मेड्रिड स्पेन मास्टर्स में उपविजेता भी रही थी। बता दें कि पीवी सिंधू का यह एक वर्ष से अधिक समय में किसी बीडब्ल्यूएफ टूर पर उनका पहला फाइनल था। वहीं दूसरी ओर लक्ष्य सेन का खराब फॉर्म चिंता का सबब बना हुआ है। पिछले कुछ समय से चल रहे खराब दौर को भूल कर पेरिस ओलंपिक खेलों से पहले अपनी फॉर्म को वापस हासिंल करना चाहेंगे। लक्ष्य सेन ने फ्रेंच ओपन और आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप में लगातार दो सेमीफाइनल में जगह बनाकर ओलंपिक में क्वालीफाई किया था। यह युवा खिलाड़ी लंबे अंतराल के बाद मैदान पर वापस आ रहा है। लक्ष्य सेन अपनी पुरानी गलतियों को पीछे छोड़ आने वाले मुकाबलों में खुद को बेहतर कर खोई हुई लय हांसिल करना चाहेंगे। 

ये भी पढ़ें: साइना नेहवाल का जन्म, आंकड़े, करियर और पुरस्कार

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More