Hockey India:- जानिए क्या है इतिहास और पुरस्कार सहित रोचक जानकारियां

Hockey India का इतिहास बहुत ही पुराना है। भारत देश में हॉकी बहुत ही लोकप्रिय है और इस खेल को भारतीय राष्ट्रीय खेल भी माना जाता है। वैसे तो हॉकी तो कई प्रकार की होती है लेकिन भारत में फिल्ड हॉकी का ज्यादा महत्त्व है।

Hockey India का इतिहास बहुत ही पुराना है । भारत देश में हॉकी बहुत ही लोकप्रिय है और इस खेल को भारतीय राष्ट्रीय खेल भी माना जाता है। वैसे तो हॉकी तो कई प्रकार की होती है लेकिन भारत में फिल्ड हॉकी का ज्यादा महत्त्व है। हॉकी लगभग चार प्रकार की होती है जैसे फिल्ड हॉकी, आइस हॉकी, रोलर हॉकी, रिंक हॉकी और फ्लोर हॉकी। हॉकी इंडिया भारत में पुरुष और महिला हॉकी दोनों के लिए सभी योजनाओं और निर्देशनो का पालन करता है । यह भारत के यूवा मामले और खेल मंत्रालय सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है ।जो हॉकी को बढ़ावा देने का कार्य करता है, साल 2008 में IOA ने भारतीय हॉकी महासंघ को बर्खास्त करने के बाद इसका गठन किया था । इस आर्टिकल के ममाध्यम से हम आपको बताने जा रहे है कि Hockey India की स्थापना कब हुई थी।

Hockey India:हॉकी इंडिया का गठन 

Hockey India की स्थापना 20 मई 2009 को हुई थी और यह अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ(FIH), एशियाई हॉकी महासंघ (AHF) और भारतीय ओलंपिक संघ (IOH) से संबद्ध है। इसका मुख्यालय नै दिल्ली में है। जुलाई 2008 को भारत में एक समारोह के दौरान इस खेल का लोगो लांच किया गया था।यह दिखने में एकदम अशोक चक्र जैसा लगता है और यह हॉकी स्टिक से बना होता है।हॉकी इंडिया ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तर पर इस खेल को बढ़ावा देने के लिए हॉकी खिलाड़ियों को 2014 से Hockey India वार्षिक पुरस्कार देने का निर्णय लिया था।

Hockey India:मिलने वाले पुरस्कार 

मेजर ध्यानचंद लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार : यह पुरस्कार साल 2002 में पहली बार उन खिलाड़ियों को दिया गया था। जिन्होंने अपने प्रदर्शन से खेलों में योगदान दिया था और रिटायर्ड होने के बाद भी खेलों को बढ़ावा देने के लिए अपना योगदान जारी रखते हैं।  

बलबीर सिंह सीनियर पुरस्कार:-(पुरुष और महिला दोनों को दिया जाने वाला पुरस्कार) बलवीर सिंह हरिपुर पंजाब के खिलाड़ी थे जिन्होंने ओलंपिक फाइनल में भारत की तरफ से सर्वाधिक गोल किए थे। जिसके लिए उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था। ये अवार्ड बेस्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को दिया जाता है।

जुगराज सिंह पुरस्कार 🙁 पुरुषों को दिया जाने वाला पुरस्कार) यह पुरस्कार हॉकी इंडिया में आने वाले 21 वर्ष से कम उम्र के खिलाड़ियों को दिया जाता है। इसमे पुरुषों को 10 लाख रुपये और एक ट्राफी दिया जाता है

Hockey India:- जानिए क्या है इतिहास और पुरस्कार सहित रोचक जानकारियां
Hockey India:- जानिए क्या है इतिहास और पुरस्कार सहित रोचक जानकारियां

 

अंसुता लाकड़ा पुरस्कार :-वर्ष की सर्वश्रेष्ठ उभरती हुई 21 वर्ष की कम आयु की महिला खिलाड़ियों को मिला।   

नराज पिल्लै पुरस्कार:- इस पुरस्कार कोक धनराज पिल्लै के नाम पैर उन खिलाड़ियों को दिया जाता है जो खेल में लगातार आगे बढ़ाते रहते हैं। फारवर्ड ऑफ द ईयर अभिषेक को दिया गया था जिसमे पुरस्कार के रूप में 5 लाख रुपये और एक ट्रोफी दिया गया था। 

अजीत पाल सिंह पुरस्कार:– भारत के लिए पेशेवर हॉकी खिलाड़ी के रूप में खेलने वाले अजीत पाल सिंह कुलार जिन्हें अजीतपाल सिंह के नाम से जाता है। उन्हें अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। 

परगट सिंह पुरस्कार :- परगट सिंह

फिल्ड हॉकी में भारत के लिए डिफेंडर के रूप में खेलते थे। उन्होंने भारत के लिए कई अहम मौकों पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है ।

बलजीत सिंह पुरस्कार:- ये पुरस्कार पूरे साल के दौरान सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को दिया जाता है।

Hockey India:हॉकी इंडिया राष्ट्रीय चैम्पियनशिप 

हॉकी इंडिया द्वारा प्रत्येक में सत्रों में होने वाले खेलों की सूची राष्ट्रीय चैम्पियनशिप की सूची नीचे दी गयी है –

  • हॉकी इंडिया सीनियर पुरुष राष्ट्रीय चैम्पियनशिप 
  • हॉकी इंडिया सीनियर महिला राष्ट्रीय चैम्पियनशिप
  • हॉकी इंडिया जूनियर पुरुष राष्ट्रीय चैम्पियनशिप
  • हॉकी इंडिया जूनियर महिला राष्ट्रीय चैम्पियनशिप
  • हॉकी इंडिया सब जूनियर पुरुष राष्ट्रीय चैम्पियनशिप
  • हॉकी इंडिया सब जूनियर महिला राष्ट्रीय चैम्पियनशिप
  • हॉकी इंडिया 5-ए -साइड राष्ट्रीय चैम्पियनशिप (महिला)
  • हॉकी इंडिया 5-ए -साइड राष्ट्रीय चैम्पियनशिप (पुरुष)
  • हॉकी इंडिया 5-ए -साइड राष्ट्रीय चैम्पियनशिप (मिश्रित)

यह भी पढ़ें :- बैडमिंटन इतिहास के 5 सितारें जिन्होंने कियें है अद्भुत् कारनामें

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More