Hybrid Pitch: हिमाचल के धर्मशाला मैदान में हुई देश की पहली हाइब्रिड पिच तैयार, आइये जानते है इसके क्या फायदे है

Hybrid Pitch: भारत देश एक ऐसा देश है जहाँ पर क्रिकेट की लोकप्रियता अब दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। यहाँ पर क्रिकेट को भगवान की तरह पूजा जाता है। इस क्रिकेट को खेलने के लिए भारत में तरह – तरह की पिचों का इस्तेमाल किया जाता है। अब भारत ने एक हाइब्रिड पिच भी तैयार कर ली है। आइये जानते है क्या होती है हाइब्रिड पिच ?

Hybrid Pitch: भारत देश एक ऐसा देश है जहाँ पर क्रिकेट की लोकप्रियता अब दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। हमारे देश भारत में अब क्रिकेट को भगवन की तरह पूजा जाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए अब भारत में भी तरह – तरह की पिचों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए अब भारत ने एक हाइब्रिड पिच भी तैयार कर ली है। यह पिच धर्मशाला के हिमाचल प्रदेश क्रिकेट के स्टेडियम में तैयार की गई है।

हम आपको बता देना चाहते है कि धर्मशाला का हिमाचल प्रदेश क्रिकेट स्टेडियम इस समय दुनिया का सबसे खूबसूरत स्टेडियम में से एक है। यह मैदान पूरी तरह से पहाड़ियों से ढका हुआ है। तभी तो इस मैदान पर खिलाड़ी खेलने का पूरा मजा उठाता है। इस मैदान की ख़ूबसूरती देखते ही बनती है। लेकिन पिछले साल हुए वर्ल्ड कप 2023 में इस मैदान की आउट फील्ड को लेकर काफी आलोचना हुई थी।

लेकिन अब जब से आईपीएल 2024 का यह सीजन शुरू हुआ है तब से अब आईपीएल के मैचों में आउट फील्ड को लेकर कोई कमी नहीं दिख रही है। वहीं इसी बीच अब खबर आ रही है कि धर्मशाला के इस मैदान पर भारत ने पहली हाइब्रिड पिच लगाई गई है। जो कि भारत के लिए किसी ऐतिहासिक खजाने से कम नहीं है।

धर्मशाला के इस खूबसूरत मैदान पर भारत की पहली हाईब्रिड पिच को लगाया गया है। धर्मशाला के मैदान पर इस पिच का अनावरण इस समय आईपीएल के अध्यक्ष अरुण धूमल और SIS के निदेश पॉल टेलर और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट असोसिएसन के पदाधिकारियों की मौजूदगी में की गई। इस तरह की हाइब्रिड पिच का अनावरण करने के बाद आईपीएल के अध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा कि भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड हर साल करीब ढाई हजार मैच करवा रही है।

लेकिन हम फिर भी केवल मैदान की मुख्य विकेट पर ही ध्यान दे पाते है। जबकि हम प्रैक्टिस विकेट और मैदान पर आस – पास के विकेट पर कोई भी ध्यान नहीं दे पाते है। तभी तो हमने इसी बात को ध्यान में रखते हुए ही 5% फाइवर का इस्तेमाल करके क्वालिटी ग्रास के साथ हाईब्रिड पिच स्थापित की है। क्यूंकि ऐसी पिचों के अभी तक काफी पॉजिटिव परिणाम आये है।

क्यूंकि हमारे देश भारत में क्रिकेट की बढ़ती हुई लोकप्रियता को देखते हुए ही अभी इस देश में क्रिकेट का प्रेशर और बढ़ने वाला है। हमारे देश में पुरुष टीम के साथ – साथ अब वुमेन्स इवेंट भी बढ़ने वाले है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ही हिमाचल प्रदेश क्रिकेट असोसिएसन ने इस महत्वपूर्ण कदम को उठाया है।

क्या होती है हाब्रिड पिच? :- इस समय पर क्रिकेट के खेल को तकनीकियों ने काफी बदल दिया है। क्यूंकि अभी भी क्रिकेट को खेलने के लिए जिस पिच की जरुरत होती है उसको बनाने के लिए पारम्परिक तरीकों का ही इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अब जब से हमने हाइब्रिड पिच तैयार की है तो इस पिच के आने के बाद काफी बदलाब देखने को मिलेगा।

इस पिच को तैयार करने के लिए हम यूनिवर्सल मशीन की सहायता से क्रिकेट के स्टेडियमों और इन की पिचों के अंदर नेचुरल टर्फ के साथ – साथ थोड़ी मात्रा में इसमें पॉलिमर फाइबर को इंजेक्ट करना है। इस तरह की पिच में नेचुरल घास के साथ – साथ ही 5% पॉलिमर फाइबर का इस्तेमाल किया जाता है। यहाँ पर मुख्य पिच के साथ वाली पिच के संवेदनशील एरिया में इस आर्टिफिशियल ग्रास को लगाया जाता है।

क्यूंकि इस तरह से तैयार पिच पर उछाल भी सामान्य पिचों की तरह ही होती है। तभी तो भारत में भी पहली बार ही हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम में इस हाइब्रिड पिच को लगाया गया है। नेट प्रैक्टिस एरिया में भी खिलाडियों के प्रैक्टिस करने वाली जगह पर भी 3 पिचों को इस हाईब्रिड टैक्निक से तैयार किया गया है। हम आपको यहाँ पर बता देना चाहते है कि इंग्लैंड के अलावा और कई देशों में भी इस तरह की हाईब्रिड पिचों को तैयार किया जाता है.

ये भी पढ़ें: IPL 2024 में भारतीय बल्लेबाजों का जलवा, ओरेंज कैप की लिस्ट में 5 भारतीय बल्लेबाज

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More