स्पोर्ट्स मेडिसिन में है बेहतरीन करियर, जानिए जरूरी बातें

आज के समय में स्पोर्ट्स स्पेशलिस्ट की मांग तेजी से बढ़ रही है। अगर आप भी इस क्षेत्र में करियर बनाने की सोच रहे हैं तो इससे पहले इसके जरूरी पहलुओं के बारे में जानना होगा। 

पहले के मुकाबले अब दुनिया खेल को मानसिक व शाररिक रूप से ज्यादा तवज्जो देने लगी है। आज लोग खेल को सिर्फ टाइम पास के नजरिये से नहीं बल्कि एक करियर विकल्प के रूप में देख रहे हैं। ऐसे में खेल और इससे जुड़ी जरूरतें अन्य क्षेत्रों के लोगों के लिए भी करियर के विकल्प बन रहा है। इसी कड़ी में आज हम आपको स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट में करियर बनाने से संबंधित बातों की जानकारी देने जा रहे हैं। आपने अक्सर ही देखा होगा कि खिलाड़ियों के खेल के दौरान चोट लगती रहती है। ऐसे में चोटिल खिलाड़ियों की देखभाल को लेकर मैनेजमेंट स्पोर्ट्स उपचारक को रखती है। स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट अपने टीम की चोट से संबंधित खिलाड़ियों की देखभाल करने के लिए होता है। आज के समय में स्पोर्ट्स स्पेशलिस्ट की मांग तेजी से बढ़ रही है। अगर आप भी इस क्षेत्र में करियर बनाने की सोच रहे हैं तो इससे पहले इसके जरूरी पहलुओं के बारे में जानना होगा।

जरूरी योग्यता

स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट बनने के लिए आपको एमबीबीएस की डिग्री लेनी होगी, क्योंकि हर स्पोर्ट्स मैनेजमेंट किसी प्रोफिशनल को ही हायर करता है। इसकी स्पेशलाइज्ड ब्रांच स्पोर्ट्स मेडिसिन मेडिकल साइंस है। डिग्री के अलावा आप डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको ऑल इंडिया स्पोर्ट्स मेडिसिन पोस्ट ग्रैजुएट एंट्रेंस टेस्ट देना होगा। इस टेस्ट में पास होने के बाद आपका इंटरव्यू होगा और इंटरव्यू के दोनों राउंड क्लियर होने के बाद आपको दाखिला मिल जाएगा।

Sports Doctor
Photo Source: Social Media

अवसर

आपको पता है कि खिलाड़ियों को अपनी जिंदगी में काफी फिट रहने की जरूरत होती है, तभी वह अपने खेल को खेलने में समर्थ होते हैं। ऐसे में हर खिलाड़ी को स्पोर्ट्स मेडिसिन की जरूरत होती है और डॉक्टर की अहमियत भी बड़ जाती है। खेलकुद में काफी कंपीटिशन होता है। खेल में लगी हुई चोट से उबरने के लिए उनका मेडिकल स्टाप महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऐसे में एक स्पोर्ट्स स्पेशलिस्ट के लिए करियर के रूप में काफी अच्छी संभावनाएं हैं।

सैलरी

स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट्स के सैलसी की कोई तय सीमा नहीं है। ये इस आधार पर तय होती है कि आप किस संस्था के साथ काम कर रहे है। आपको इस क्षेत्र में कितना अनुभव है। फौरी तौर पर बात करें तो हिंदुस्तान के लिहाज से शुरुआती दिनों में 40 हजार रुपये प्रतिमाह तक मिल सकते हैं। इसके बाद ज्यादा अनुभव होने के बाद स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट्स 1 लाख रूपये से 3 लाख रुपये प्रतिमाह तक या इससे भी अधिक वेतन प्राप्त कर सकता है।

यहां से कर सकते हैं कोर्स 

  1. हॉस्पिटल फॉर ऑर्थोपीडिक्स, बेंगलुरु
  2. गुरु नानक देव युनिवर्सिटी, अमृतसर
  3. ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ हाइजीन ऐंड पब्लिक हेल्थ, कोलकाता
  4. फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज, फरीदकोट

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More