जानिए पहला एशियाई गेम्स कहां हुआ, क्या कहता है इसका इतिहास?

चूकी अभी एशियन गेम्स चल रहे हैं। ऐसे में कुछ लोगों को ये जानने की ललक है कि आखिर इसका इतिहास क्या है?

इस साल चीन के हांगझोउ में एशियन गेम्स का 19वां संस्करण चल रहा है। हमारी इस खबर को लिखे जाने तक ये साल भारत के लिहाज से भी काफी खास रहा है। अब तक भारत ने एशियाई गेम्स 2023 में कुल 60 मेडल अपने नाम कर लिए है। इसमें से कुल 13 गोल्ड भी शामिल है। फिलहाल आज इसका 10वां दिन है। आज भी भारत की झोली में पदक आने की उम्मीद है। आज भारतीय टीम का नेपाल के साथ भी मुकाबला है। ये मुकाबला क्वार्टर फाइनल के रूप में खेला जाएगा। उम्मीद है कि इस मुकाबले को भारतीय टीम अपने नाम कर लेगी। चूकी अभी एशियन गेम्स चल रहे हैं। ऐसे में कुछ लोगों को ये जानने की ललक है कि आखिर इसका इतिहास क्या है? इसकी शुरुआत कब हुई थी जैसे सवाल लोगों के मन में हैं। आपकी इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम एशियन गेम्स के सम्पूर्ण इतिहास को आपके सामने ला रहे हैं। तो आइए जानते हैं कि आखिर क्या है इसका इतिहास।

नई दिल्ली 

जी हां, एशियाई खेलों का सबसे पहली मेजबानी भारत ने ही की थी। साल 1951 के दौरान भारत की राजधानी दिल्ली में इसका आयोजन हुआ था। हांलाकि इसको साल 1950 में ही होना था, लेकिन तैयारियों में देरी के चलते इसको एक साल बाद के लिए टालना पड़ा। बता दें कि जापान को साल 1948 के ओलंपिक में हिस्सा नहीं लिया देने गया, जिसके चलते वो इसकी महासंघ की संस्थापक बैठक में शामिल नहीं हुआ, लेकिन उसने इन खेलों में हिस्सा लिया था। एशियाई खेलों के पहला उद्घाटन भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने किया और आयोजन की बात करें तो मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में हुआ था।

मनीला

दूसरे एशियाई खेलों की मेजबानी फिलीपीन्स ने की थी। साल 1965 में मनीला की धरती पर दूसरे एशियाई खेलों का आयोजन हुआ था। इन खेलों का उदघाटन फिलीपीन्स की राष्ट्रपति रैमन मैगसायसाय ने की थी।

टोक्यो

एशियाई खेलों के तीसरे संस्करण का आयोजन साल 1958 में हुआ था। इन खेलों को जापान की राजधानी टोक्यो में खेला गया था। जानकारी के लिए बता दें कि ये वो ही साल था जब एशियाई खेलों में मशाल की परंपरा को शुरु किया गया था।

जकार्ता

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में एशियन गेम्स के चौथे संस्करण का आयोजन हुआ था। इसको साल 1962 के 24 अगस्त से खेला गया था। इस दौरान इसराइल और ताइवान ने हिस्सा नहीं लिया था। इसके पीछे का कारण अरब देश और चीन था। इन दोनों देशों के दबाव के चलते ताइवान के प्रतिनिधियों ने वीजा देने से इनकार कर दिया था।

बैंकॉक

थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में एशियाई खेलों के पांचवे संस्करण का आयोजन हुआ था। इस साल ताइवन और इजराइल ने इन खेलों में हिस्सा लिया था। ये साल 1966 में हुए थे।

बैंकॉक

साल 1970 में एशियाई खेलों की छठी मेजबानी बैंकॉक ने ही की थी। हांलाकि इसका आयोजन दक्षिण कोरिया को करना था उत्तर कोरिया की धमकी के चलते वहां पर इसका आयोजन नहीं हो सका। इसके बाद ही थाईलैंड ने इसके आयोजन के हामी भर दी और वहां पर ही इसका आयोजन हुआ।

तेहरान 

साल 1974 में 16 सितंबर से बीच ईरान राजधानी तेहरान में एशियन गेम्स के सातवें एशियाई खेलों का आयोजन हुआ था।

बैंकॉक

एक बार फिर से तीसरी बार एशियन गेम्स के आठवें एशियाई खेलों का आयोजन बैंकॉक में ही हुआ था। इन खेलों को 20 दिसंबर 1978 के से खेला गया था। इस साल बांग्लादेश के साथ तनाव के बाद पाकिस्तान ने आयोजन में हिस्सा नहीं लिया था।

नई दिल्ली

भारत की राजधानी नई दिल्ली ने साल 1982 में दूसरी बार नौवें एशियाई खेलों की मेजबानी की थी। इस दौरान 33 देशों ने इसमें भाग लिया था।

सोल 

दसवें एशियाई खेलों का आयोजन दक्षिण कोरिया के सोल में हुआ था। ये एशियाई खेलों का आयोजन 1986 के साल हुआ था। इस दौरान तीन विश्व रिकॉर्ड भी टूटे थे। जहां पर पीटी उषा इन खेलों की स्टार खिलाड़ी बन कर उभरी थी।

बीजिंग

ग्यारहवें एशियाई खेलों का आयोजन साल 1990 में हुआ था। ये जापान की राजधानी बीजिंग में हुआ था।

हिरोशिमा

1994 में जापान के हिरोशिमा में बारहवें एशियाई खेलों का आयोजन हुआ था। इस साल के खेलों का संदेश एशिया में शांति और सौहार्द को बढ़ाना था।

इसके बाद क्रमश: 1998 में बैंकाक, 2002 में बैंकाक, 2006 में कतर, 2010 में चीन, 2014 में दक्षिण कोरिया, 2018 में इंडोनेशिया और 2023 में चीन में इसको खेला जा रहा है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More