तेजस ने तोड़ा National Record, फ़िनलैंड में बजाया अपना डंका

तेजस ने अभी हाल में ही 9 मई को नीदरलैंड में 13.56 सेकेंड समय के साथ अपना बेस्ट प्रदर्शन किया था। बुधवार को ये रेस जीतकर उन्होंने एथलेटिक्स रोड टू पेरिस की सुंची में रैंकिंग में उपर जा सकते हैं।

फिनलैंड में हो रहे विश्व एथलेटिक्स कांटिनेंटल टूर चैलेंजर स्तर की प्रतियोगिता मोनोरेट जीपी सीरीज में स्वर्ण पदक जीतकर पुरुषों की 110 मीटर बाधा दौड़ में 13.41 सेकेंड के समय के साथ राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिया। शिरसे ने साल 2017 में सिद्धांत थिंगाल्या के द्वारा बनाए गये राष्ट्रीय रिकॉर्ड 13.48 को भी ब्रेक करके एक नया इतिहास रच दिया। तेजस ने अभी हाल में ही 9 मई को नीदरलैंड में 13.56 सेकेंड समय के साथ अपना बेस्ट प्रदर्शन किया था। बुधवार को ये रेस जीतकर उन्होंने एथलेटिक्स रोड टू पेरिस की सुंची में रैंकिंग में उपर जा सकते हैं। पेरिस ओलंपिक में पुरुषों की 110 मीटर बाधा दौड़ के लिए क्वालीफाई मार्क 13.27 सेकेंड है। पेरिस ओलंपिक में 110 मीटर की बाधा दौड़ में 40 एथलीट प्रतिभाग करेंगे लेकिन इनके आधे ही विश्व रैंकिग में जगह बना पाएंगे।

तेजस के साथ ज्योति ने भी तोड़ा रिकॉर्ड 

तेजस ने पिछले साल फेडरेशन कप, राष्ट्रीय, अंतर – राज्य चैम्पियनशिप औ राष्ट्रीय ओपन में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने इस साल के फेडरेशन कप में हिस्सा नही लिया था, क्योंकि इस दौरान तेजस विदेश में ट्रेनिंग के साथ साथ प्रतिभाग कर रहे हैं। महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ में, ज्योति याराजी ने 12.78 सेकेंड समय के साथ अपने ही रिकॉर्ड की बराबरी कर ली हैं। बता दें कि ज्योति ओलंपिक खेलों के लिए स्वचालित योग्यता से एक सेकेंड के सौवें हिस्से से चुक गयी। अभिषेक कुजूर ने 100 मीटर रेस में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 10.39 सेकेंड के साथ दूसरा स्थान हांसिल किया। अमलान बोरगोहेन ने भी अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 10.54 सेकेंड की टाइमिंग के साथ चौथे स्थान पर रहीं। पुरुषों की 100 मीटर दौड़ के लिए पेरिस ओलंपिक में प्रवेश मानक 10 सेकेंड रखा गया है।

110 मीटर बाधा दौड़ में शीर्ष भारतीय तेजस

भारतीय खिलाड़ी तेजस शिरसे ने अभी तक कोई भी इंटरनेशनल पदक नही जीता है फिर भी पुरुषों की 110 मीटर बाधा दौड़ में पहले पायदान पर हैं। उन्होंने अपने खेल पर और भी ज्यादा फोकस बढ़ा दिया है। तेजस अपनी ट्रेनिंग के दौरान कड़ी कड़ी मेहनत करते है और अपने आप को मूव करने के लिए हमेशा नई नई चीजें सीखतें रहते हैं। इस खिलाड़ी ने इससे पहले बहुत सारे इवेंट में प्रतिभाग किया है और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया हैं और भारत का नाम रोशन किया है।

ये भी पढ़ें: पीवी सिंधु ने कोरिया की यू जिन को हराया, बनाई क्वार्टरफाइनल में जगह 

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More